अनोखा आदेश: सरकारी स्कूल की शिक्षिकाओं की पक्षियों को दाना और चीटियों को आटा डालने में लगाई ड्यूटी

चैतन्य भारत न्यूज

जयपुर. इस समय पूरा देश कोरोना वायरस से लड़ रहा है। इस बीच राजस्थान के करौली जिले में सरकारी स्कूल की दो शिक्षिकाओं की ड्यूटी लगाने की खूब चर्चा हो रही है। सरकारी स्कूल की दो शिक्षिकाओं की चींटियों को आटा और पक्षियों को दाना डालने में ड्यूटी लगाई गई है।

रोजाना यह कार्य करने का आदेश

करौली जिले की हिंडौन तहसील के चमरपुरा के सरकारी उच्च प्राथमिक स्कूल के प्रधानाध्यापक ने यह अनोखा आदेश दिया है। आदेश के मुताबिक, स्कूल की अध्यापिका पूजा जैन और अंजली गुप्ता को नियमित रूप से स्कूल परिसर में पक्षियों को दाना और चींटियों को आटा डालना है। उन्हें यह काम रोजाना करना है। स्कूल की आदेश पंजिका में इस आदेश को अंकित किया गया है।

शिक्षिकाएं खुद करेंगी आटे-दाने का प्रबंध

प्रधानाध्यापक ने इसके पीछे राज्य सरकार के निर्देशों का हवाला दिया गया है। बता दें 13 अप्रैल को स्कूल के प्रधानाध्यापक ने दोनों शिक्षिकाओं को यह आदेश व्हाट्सऐप के जरिए भेजा था। आदेश में यह भी कहा कि वे पक्षियों के दाने और चींटियों के लिए आटे का प्रबंध खुद करेंगी। सोशल मीडिया पर प्रधानाध्यापक का यह अनोखा आदेश खूब वायरल हो रहा है और यूजर्स कई तरह की टिप्पणियां कर रहे हैं।

प्रधानाध्यापक ने की आदेश की पुष्टि

चमरपुरा उच्च प्राथमिक स्कूल के प्रधानाध्यापक कमल सिंह मीणा ने कहा कि, ‘वायरल आदेश सही है। कलेक्टर के भी आदेश हैं कि लॉकडाउन में जीवों के दाने-पानी का ध्यान रखना है। इसलिए स्कूल परिसर में दाना डालने के लिए 2 शिक्षिकाओं की ड्यूटी लगाई गई है।’

शिक्षा राज्यमंत्री बोले- मैंने आदेश नहीं देखा

वहीं राज्य के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने इस बारे में कहा कि, ‘शिक्षिकाओं की चींटियों और पक्षियों को दाना डालने के लिए ड्यूटी लगाने के आधिकारिक रूप से तो शिक्षा विभाग के निर्देश नहीं हैं, लेकिन जीव दया के हिसाब से ऐसी कोई स्थानीय स्तर पर जिम्मेदारी दी है तो इसमें कोई हर्ज भी नहीं है। लॉकडाउन में जीव जंतुओं के दाना पानी का भी ध्यान रखना है। यह मानवीय संवेदनाओं से जुड़ा मामला है।’

सीएम गहलोत ने दिए थे निर्देश

गौरतलब है कि राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में लॉकडाउन के दौरान पशु-पक्षियों के लिए भी दाना-पानी की व्यवस्था किए जाने के निर्देश दिए थे। उन्होंने इसके लिए समाजसेवियों की मदद लेने को भी कहा था।

 

Related posts