लॉकडाउन के दौरान घर में बैठे-बैठे बनाया अनोखा रिकॉर्ड, छत पर 33 घंटे में 222 किमी दौड़ा ये धावक

keshav maniktala

चैतन्य भारत न्यूज

यमुनानगर. लॉकडाउन के दौरान जहां कुछ लोग घर पर बैठकर बोर हो रहे हैं तो वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं जो इस खाली समय का बहुत अच्छी तरह इस्तेमाल कर रहे हैं। खाली समय का सबसे बेहतर उपयोग मॉडल टाउन के धावक केशव मानिकटाला ने किया है। उन्होंने युनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका (यूएसए) के बैकयार्ड अल्ट्रा क्लब द्वारा कराई गई मैराथन में भाग लेकर एक रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।

ये हैं मैराथन के नियम

जानकारी के मुताबिक, इस मैराथन में भाग लेने वाले प्रतिभागियों की निगरानी जूम साफ्टवेयर के जरिये लाइव कॉन्फ्रेंसिंग से या स्ट्रावा एप्लीकेशन (मैराथन के लिए बनाई गई विशेष एप्लीकेशन) व जीपीएस से होती है। मैराथन में प्रतिभागी या तो ट्रेडमिल पर दौड़ सकते हैं या फिर छत या मैदान पर दौड़ सकते हैं। उन्हें एक सेकंड के लिए भी नहीं रुकना चाहिए। यदि कोई प्रतिभागी एक सेकंड के लिए भी रुका तो वह प्रतियोगिता से बाहर हो जाएगा। नियम के मुताबिक एक घंटे में सात किलोमीटर दौड़ना जरूरी है।

222 किमी दौड़े केशव

केशव दोनों की सॉफ्टवेयर की निगरानी में थे। वह लगातार दौड़ते रहे। केशव ने घर की छत व ट्रेड मिल पर 33 घंटे की लगातार दौड़ कर 222 किलोमीटर की दौड़ लगाईं। इस प्रतियोगिता में 50 देशों के तीन हजार धावकों ने भाग लिया। केशव ने प्रतियोगिता में भारत में पहले और विश्व में 17 वें स्थान पर अपनी जगह बनाई। प्रतियोगिता में 62 घंटे दौड़ने वाले अमेरिका के माइकल वोडन पहले स्थान पर रहे।

17 बार लगा चुके हैं 100 किमी दौड़

बता दें केशव साल 2012 से रेस लगा रहे हैं। वह करीब 17 बार 100 किलोमीटर की रेस लगा चुके हैं। उनके नाम स्ट्रावा क्लब ऑर्गेनाइजेशन पर रिकॉर्ड भी दर्ज है। इस क्लब के दस लाख 17 हजार 561 सदस्य है। केशव फिलहाल पांचवें स्थान पर हैं। इससे पहले केशव के नाम 100 दिन की रनिंग में 5300 किलोमीटर की दौड़ लगाने का पहला रिकॉर्ड दर्ज है।

ये भी पढ़े…

अनोखा आदेश: सरकारी स्कूल की शिक्षिकाओं की पक्षियों को दाना और चीटियों को आटा डालने में लगाई ड्यूटी

वैज्ञानिकों ने खोजा ऐसा अनोखा जीव जो सांस नहीं लेता, बिना ऑक्सीजन के रहता है जिंदा

अनोखा सॉफ्टवेयर जो दिल की धड़कन से पहचान लेगा विदेशी जासूस, ऐसे करेगा काम

Related posts