उन्नाव कांड: पीड़िता के दो अंदरूनी अंग हुए डैमेज, हालत गंभीर, पिता बोले- जिसे बेटा समझकर घर आने दिया, उसी ने किया बेटी का रेप

unnav rape victim

चैतन्य भारत न्यूज

उन्नाव. दो दिन पहले ही जमानत पर छूटे सामूहिक दुष्कर्म के आरोपितों ने गुरुवार को पीड़ित लड़की को जिंदा जला दिया। सूत्रों के मुताबिक, पीड़िता 90 प्रतिशत तक जल चुकी है और हालत बेहद नाजुक बताई जा रही है। गुरुवार रात उसे एयरलिफ्ट कर दिल्ली ले जाया गया, जहां उसे सफदरजंग अस्पताल भर्ती कराया गया।


कमर से निचले हिस्से में हुआ ज्यादा नुकसान

सूत्रों के मुताबिक, पीड़िता के दो अंदरूनी अंग भी आग की चपेट में आ गए हैं, जिसके चलते उसकी परेशानी बढ़ती ही जा रही है। आज डॉक्टर पीड़िता के दो छोटे ऑपरेशन करने का निर्णय भी ले सकते हैं। सफदरजंग अस्पताल के सूत्रों के मुताबिक, गुरुवार रात से ही उन्नाव रेप पीड़िता कई स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की देखरेख में है। डॉक्टरों ने बताया कि, जलने के दौरान पीड़िता के शरीर को सबसे ज्यादा नुकसान कमर के निचले हिस्से को पहुंचा है। इसके कारण पीड़िता के दो अंदरूनी अंग काफी क्षतिग्रस्त हुए हैं।

उन्नावः जमानत पर छूटे दुष्कर्म आरोपितों ने पीड़िता पर पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया, हालत गंभीर

संक्रमण को रोकने पर है पूरा जोर

जलने के कारण शरीर में इंफेक्शन न फैले इसे लेकर भी पैनी निगाह रखी जा रही है। पीड़िता को इंफेक्शन से बचाने के लिए डॉक्टर हर संभव कदम उठा रहे हैं। जानकारों के मुताबिक, जलने के कारण यदि शरीर में इंफेक्शन फैल गया तो फिर उसे कंट्रोल करना बहुत मुश्किल हो जाता है। यहां तक की बहुत सारे केस में जले हुए मरीज की मौत ही इसी संक्रमण के चलते हो जाती है।

unnao rape

पीड़िता के पिता ने बयां किया दर्द

घटना के बाद पीड़िता के पिता ने बताया कि, ‘जिसे बेटा समझकर घर आने की इजाजत दी थी, उसी ने बेटी के साथ दुष्कर्म किया और फिर वीडियो बना डाले। बाद में इन वीडियो के दम पर बेटी के साथ जबरदस्ती करता रहा।’

जहां महिला डॉक्टर के साथ हुई दरिंदगी, पुलिस ने उसी जगह चारों आरोपितों को मार गिराया, जानें पूरी कहानी

क्या है मामला

गुरुवार को एक दुष्कर्म पीड़िता को जमानत पर छूट कर आए दो आरोपितों ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया। यह घटना बिहार थानाक्षेत्र के हिन्दुनगर गांव की है। पीड़िता के साथ इस साल मार्च में दुष्कर्म हुआ था। मामले में पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर दो आरोपितों शिवम और शुभम को गिरफ्तार किया था। इसके बाद से वे दोनों जेल में थे। 3 दिसंबर को वे जमानत पर बाहर आए थे। पीड़िता इस मामले में गुरुवार को पैरवी के लिए रायबरेली जा रही थी। इससे पहले ही सुबह करीब 4 बजे गांव के बाहर खेत में दोनों आरोपित व उसके तीन साथियों ने पीड़िता पर पेट्रोल छिड़ककर उसे आग के हवाले कर दिया। पुलिस ने मामले में शिवम, उसके पिता रामकिशोर, शुभम, हरिशंकर और उमेश बाजपेयी को गिरफ्तार किया।

ये भी पढ़े…

जहां महिला डॉक्टर के साथ हुई दरिंदगी, पुलिस ने उसी जगह चारों आरोपितों को मार गिराया, जानें पूरी कहानी

सुनसान सड़क पर पंक्चर हुई गाड़ी, बहन को फोन पर कहा- मुझे डर लग रहा है, सुबह मिली जली हुई लाश

बक्सर में हुई हैदराबाद जैसी हैवानियत, दुष्कर्म के बाद युवती को जलाने का प्रयास

महिला चिकित्सक हत्याकांड : तीन पुलिसवाले सस्पेंड, लोगों ने पुलिस पर फेंकी चप्पल, आरोपी की मां बोली- मेरे बेटे को भी जिंदा जला दो 

Related posts