4 मई से हो सकेगी चार धाम यात्रा, जल्द ही लौटेगी रौनक : सीएम रावत

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना वायरस महामारी के बीच देशभर में 17 मई तक लॉकडाउन लागू है। लॉकडाउन के चलते चार धाम यात्रा पर भी श्रद्धालुओं को जाने की इजाजत नहीं है। हाल ही में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लॉकडाउन से बाहर आने की रणनीति पर बातचीत की।

मुख्यमंत्री रावत ने केदारनाथ धाम के कपाट और चार धाम यात्रा को लेकर किए गए सवाल के जवाब में कहा कि, ‘हम चाहते हैं कि लोग दर्शन करें। देश के हालात ठीक हों, हम बाबा केदार से यह प्रार्थना करते हैं।’ बाबा केदारनाथ के दर्शन कब से श्रद्धालु कर पाएंगे? इस सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि, ‘4 मई से प्रदेश के सभी ग्रीन जोन को पूरी तरह से खोल दिया जाएगा। जो भक्त वहां जाना चाहें, 4 मई से जा पाएंगे। ये सभी प्रदेश के ही होंगे।’

इस दौरान मुख्यमंत्री रावत ने यह भी साफ किया है कि यात्रा के समय सोशल डिस्टेंसिंग और नियमों का पालन करना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि, ‘वह समय आएगा, जब हम भयमुक्त होकर बाबा केदारनाथ के दर्शन कर सकें।’ मुख्यमंत्री रावत ने साल 2012 में केदारनाथ में आई आपदा को याद करते हुए कहा कि, जल्द ही रौनक फिर लौटेगी। उन्होंने बाबा के ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था के संबंध में कहा कि, ‘विग्रह स्थल पर कैमरे की व्यवस्था नहीं है। समाज में परंपराओं का महत्व है। मंदिर का बाहर से दर्शन कराया जा सकता है।’

हालांकि, मुख्यमंत्री ने बताया कि, ‘लोगों को विग्रह स्थल का ऑनलाइन दर्शन कराने के लिए पुजारी समाज से बात कर विचार किया जा सकता है। हमारी सरकार ने सख्ती और सतर्कता के साथ कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ी। जहां जरूरी हुआ, वहां सख्ती बरती और सतर्कता भी।’ मुख्यमंत्री ने कहा कि, 15 मार्च को पहला मामला सामने आने के साथ ही हमने स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी।

ये भी पढ़े…

मुहूर्त में ही खुलेंगे चार धाम के कपाट, लॉकडाउन के कारण आम जनता नहीं कर सकेगी दर्शन!

 चारधाम यात्रा 2020: लॉकडाउन के बीच शुभ मुहूर्त में विधि विधान के साथ खुले गंगोत्री-यमुनोत्री धाम के कपाट, पीएम मोदी के नाम से हुई प्रथम पूजा

6 माह के लिए खुले बाबा केदारनाथ धाम के कपाट, नर-नारायण की भक्ति से प्रसन्न होकर यहां प्रकट हुए थे भोलेनाथ

Related posts