ग्लेशियर टूटा, आया सैलाब, अब तक 15 लोगों की मौत, 170 लोग अब भी लापता, सुरंग में रेस्क्यू जारी

चैतन्य भारत न्यूज

देवभूमि उत्तराखंड में रविवार को कुदरती आफत ने फिर अपना कहर बरपाया है। चमोली में ग्लेशियर टूट जाने से बड़ा नुकसान हुआ। पानी का बहाव इतना तेज था कि सब कुछ बह गया। अब तक कुल 15 शवों को मिल चुके हैं, जबकि 150 से अधिक लोग गायब बताए जा रहे हैं।


स्थानीय प्रशासन से लेकर सेना तक अब भी रेस्क्यू में जुटी है और राज्य-केंद्र सरकार मिलकर काम कर रही हैं। रविवार को टनल से आईटीबीपी के जवानों ने 16 लोगों को सुरक्षित निकाला जिसके बाद दूसरे सुरंग में भी 30 लोगों के फंसे होने की सूचना मिली। इस पर देर रात से ही एनडीआरएफ के जवान टनल से लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने की कोशिश में जुटे हुए हैं लेकिन दलदल वाली जमीन होने की वजह से रेस्क्यू में भारी दिक्कत आ रही हैं। पानी की वजह से दलदल जैसी स्थिति है जिस कारण वहां भारी मशीनों का इस्तेमाल भी नहीं हो पा रहा है।


जानकारी के मुताबिक, 300 जवानों को टनल साफ करने में लगाया गया है, स्थानीय प्रशासन का कहना है कि करीब 170 लोग लापता हैं। बीते दिन 12 लोग जो बचाए गए हैं, वो एक दूसरी टनल थी। रेस्क्यू में सबसे बड़ी चुनौती 30-35 फीट कीचड़ है। अभी पानी इसके ऊपर से बह रहा है और बहुत से लोग कीचड़ में फंस गए हैं। फंसे हुए लोगों को जल्द से जल्द सुरंग से बाहर निकालने के लिए सेना ने दो चीता हेलीकॉप्टर तैनात किए हैं, एनडीआरएफ के 60 जवानों को वायुसेना ने C130 एयरक्राफ्ट से जॉलीग्रांट एयरपोर्ट, देहरादून पहुंचाया है।

Related posts