पत्नी की मांग पर कोरोना मरीज का लिया गया स्पर्म, कुछ ही घंटों बाद हुई मौत

चैतन्य भारत न्यूज

अहमदाबाद. गुजरात के वडोदरा के एक निजी अस्पताल में भर्ती उस कोरोना मरीज की गुरूवार को मौत हो गई है, जिसकी पत्नी ने हाई कोर्ट के सामने यह मांग रखी थी कि वह अपने पति के बच्चे की मां बनना चाहती है और इसलिए उसे पति के स्पर्म को एकत्रित करने की इजाजत चाहिए। 32 वर्षीय कोरोना मरीज पिछले चार महीनों से कोरोना से जंग लड़ रहा था।

सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (एआरटी) के जरिए बच्चा पैदा करने की इच्छा रखने वाली 29 वर्षीय पत्नी की याचिका पर सुनवाई के बाद मंगलवार को गुजरात हाई कोर्ट ने अस्पताल को स्पर्म को संरक्षित करने का निर्देश दिया था क्योंकि वह व्यक्ति अनुदान देने की सहमति देने की स्थिति में नहीं था। अस्पताल प्रशासन ने कहा कि स्टर्लिंग अस्पताल, वडोदरा में कोविड -19 संबंधित जटिलताओं के लिए 10 मई को अस्पताल में भर्ती होने के बाद एक्स्ट्राकोर्पोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजनेशन (ईसीएमओ) पर रहने वाले व्यक्ति का गुरुवार तड़के निधन हो गया। स्टर्लिंग अस्पताल में कोरोना की नोडल अधिकारी डॉ मयूर डोधिया ने कहा कि निमोनिया से व्यक्ति की मृत्यु हो गई।

सूत्रों ने कहा कि अस्पताल ने शव को परिवार को सौंप दिया। व्यक्ति के माता-पिता और पत्नी ने इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) प्रक्रिया के लिए एआरटी के साथ आगे बढ़ने की अनुमति देने के लिए गुजरात हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। अस्पताल ने कोर्ट के आदेश का पालन करते हुए टेस्टिकुलर स्पर्म एक्सट्रैक्शन विधि के माध्यम से स्पर्म को एकत्र किया।

बुधवार को शहर के एक आईवीएफ लैब में स्पर्म को संरक्षित किया गया है। इससे पहले गुजरात हाई कोर्ट में पत्नी ने कहा था कि मेरे पति 24 घंटे से अधिक जीवित नहीं रह सकते हैं, ऐसे में भविष्य में मां बनने के लिए स्पर्म को संरक्षित करने की इजाजत दी जाए। याचिकाकर्ता ने तर्क दिया था कि व्यक्ति बेहोश है, इसलिए अस्पताल प्रबंधन इजाजत नहीं दे रहा है। जिसके बाद शख्स की बिगड़ती हालत को देखते हुए कोर्ट ने अस्पताल को स्पर्म को सुरक्षित रखने का निर्देश दिया था।

Related posts