ब्रिटिश कोर्ट ने विजय माल्या को दिवालिया घोषित किया, अब भारतीय बैंक जब्त कर सकेंगी संपत्ति

vijay mallya,bombay high court

चैतन्य भारत न्यूज

ब्रिटेन की अदालत ने सोमवार को विजय माल्या को दिवालिया घोषित करने के आदेश को मंजूरी दे दी। इससे अब भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के नेतृत्व में अन्य भारतीय बैंक माल्या की संपत्ति पर आसानी से कब्जा कर सकेंगे। इन बैंकों ने अदालत में इस संबंध में याचिका दाखिल की थी। बता दें कि माल्या को बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइन द्वारा बकाया ऋण की अदायगी की मांग के लिए दुनिया भर में फ्रीजिंग आदेश का पालन करना पड़ रहा है। वर्चुअल माध्यम से हुई सुनवाई में हाईकोर्ट के चांसरी डिवीजन के मुख्य दिवाला और कंपनी न्यायालय के न्यायाधीश माइकल ब्रिग्स ने अपने फैसले में कहा कि मैं माल्या को दिवालिया घोषित करता हूं। कानूनी फर्म टीएलटी एलएलपी और बैरिस्टर मार्सिया शेकरडेमियन ने सुनवाई के दौरान भारतीय बैंकों की ओर से पैरवी की थी। 65 वर्षीय व्यवसायी माल्या इस बीच ब्रिटेन में जमानत पर ही रहेंगे, जब तक कि उनके प्रत्यर्पण से संबंधित कानूनी कार्यवाही पूरी नहीं हो जाती है। वहीं इस दौरान माल्या के वकील फिलिप मार्शल ने भारतीय अदालतों में कानूनी चुनौतियां जारी रहने तक आदेश को स्थगित करने की मांग की। हालांकि, उनके इन अनुरोधों को न्यायाधीश ने ठुकरा दिया। न्यायाधीश ने अपने निष्कर्ष में कहा कि इस बात के ‘अपर्याप्त सबूत’ थे कि ऋण याचिकाकर्ताओं को उचित समय के भीतर पूरी तरह से वापस कर दिया जाएगा। दिवालिया के आदेश के खिलाफ अपील करने की अनुमति मांगने के लिए भी एक आवेदन प्रस्तुत किया गया था, जिसे न्यायाधीश ब्रिग्स ने यह कहकर अस्वीकार कर दिया, कि इस अपील की ‘वास्तविकता में सफलता की संभावना’ नहीं थी।  

Related posts