आखिर क्यों की जाती है विश्वकर्मा पूजा, जानिए इसका महत्व और पूजा-विधि

vishwakarma puja,vishwakarma puja 2019,vishwakarma puja ka mahtav,vishwakarma puja vidhi

चैतन्य भारत न्यूज

भगवान विश्वकर्मा को निर्माण और सृजन का देवता माना जाता है। उन्हें दुनिया का सबसे पहला इंजीनियर भी कहा जाता है। हर साल शिल्पकार भगवान विश्वकर्मा पूजा का त्योहार मनाते हैं। विश्वकर्मा पूजा का पर्व कन्या संक्रांति के दिन मनाया जाता है जो इस बार 17 सितंबर को है। इसे विश्वकर्मा जयंती भी कहा जाता है।

vishwakarma puja,vishwakarma puja 2019,vishwakarma puja ka mahtav,vishwakarma puja vidhi

कहा जाता है कि भगवान विश्वकर्मा ने ही देवी-देवताओं के लिए अस्त्रों, शस्त्रों, भवनों और मंदिरों का निर्माण किया था। पुराणों के मुताबिक, उन्होंने ही सृष्टि की रचना में भगवान ब्रह्मा की सहायता की जिसके बाद से उन्हें दुनिया का पहला शिल्पकार माना जाता है। बात दें शिल्पकार खासकर इंजीनियरिंग काम में लगे लोग उन्हें अपना आराध्य मानते हैं और उनकी पूजा करते हैं। आइए जानते हैं विश्वकर्मा पूजा का महत्व और पूजा-विधि।



vishwakarma puja,vishwakarma puja 2019,vishwakarma puja ka mahtav,vishwakarma puja vidhi

विश्वकर्मा पूजा का महत्व

ऐसा कहा जाता है कि भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने से मशीनें और औजार जल्दी खराब नहीं होते, क्योंकि भगवान विश्वकर्मा की कृपा उन पर बनी रहती है। यूपी, बिहार, दिल्ली, हरियाणा, पश्चिम बंगाल में प्रमुख रूप से विश्वकर्मा पूजा की जाती है। धन-धान्य और सुख-समृद्धि के लिए भगवान विश्वकर्मा की पूजा करना आवश्यक और मंगलदायी है।

vishwakarma puja,vishwakarma puja 2019,vishwakarma puja ka mahtav,vishwakarma puja vidhi

विश्वकर्मा पूजा-विधि

  • सुबह जल्दी उठकर स्नानादि करने के बाद अच्छे कपड़े पहनकर भगवान विश्वकर्मा की मूर्ति या तस्वीर के सामने बैठ जाएं।
  • इसके बाद भगवान विश्वकर्मा की अक्षत, हल्दी, फूल, पान, लौंग, सुपारी, मिठाई, फल, धूप दीप और रक्षासूत्र आदि से विधिवत पूजा करें।
  • पूजा के बाद सभी हथियारों को हल्दी चावल लगाएं।
  • इसके बाद कलश को हल्दी चावल व रक्षासूत्र चढ़ाएं।
  • इसके बाद पूजा मंत्रों का उच्चारण करें।
  • पूजा संपन्न होने के बाद कार्यालय के सभी कर्मचारियों और आस पड़ोस  के लोगों को प्रसाद वितरण करें।

ये भी पढ़े…

सितंबर महीने में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज-त्योहार, जानिए कब से शुरू हो रही नवरात्रि

सबसे पहले इन्होंने किया था श्राद्ध, जानिए इसकी शुरुआत की कहानी

पितृ पक्ष में इन चीजों का दान माना गया है महादान, पूर्वज भी होते हैं प्रसन्न

Related posts