MP : कोरोना वैक्सीन का ट्रायल डोज लेने के 9 दिन बाद वालंटियर की मौत, रिपोर्ट में सामने आई ये बात

चैतन्य भारत न्यूज

भारत बायोटेक और आईसीएमआर द्वारा बनाई गई स्वदेशी कोरोना वैक्सीन (कोवैक्सीन) का अंतिम रॉयल 7 जनवरी को पूरा हुआ है। पूरे देश में 26 हजार से ज्यादा लोगों को इस वैक्सीन का ट्रायल टीका लगाया गया। लेकिन, इसके अगले ही दिन शुक्रवार को बड़ी खबर आई। 47 वर्षीय एक वॉलंटियर की कोवैक्सीन का ट्रायल टीका लगवाने के बाद से मौत हो गई जिससे हड़कंप मच गया।

शव में जहर मिलने की पुष्टि हुई

47 वर्षीय वॉलंटियर दीपक मरावी ने भोपाल में 12 दिसंबर को कोवैक्सीन का ट्रायल टीका लगवाया था। उन्हें यह टीका भोपाल के पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में लगाया गया था। लेकिन 9 दिन के बाद यानी 21 दिसंबर को उसकी मौत हो गई। लेकिन मौत का खुलासा 8 जनवरी को हुआ है। हालांकि अब जांच रिपोर्ट में दीपक मरावी के शरीर में जहर मिलने की बात सामने आई है। 22 दिसंबर को उनके शव का पोस्टमार्टम कराया गया, जिसकी प्रारंभिक रिपोर्ट में शव में जहर मिलने की पुष्टि हुई है। हालांकि, उनकी मौत कोवैक्सीन का टीका लगवाने से हुई या किसी अन्य कारण से, इसकी पुष्टि पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आने के बाद होगी। दीपक के शव का विसरा पुलिस को सौंप दिया गया है।

अचानक खराब होने लगी तबीयत

वे टीला जमालपुरा स्थित सूबेदार कॉलोनी में अपने घर में मृत मिले थे। मृतक के बेटे आकाश ने बताया कि पिता को 19 दिसंबर को अचानक घबराहट और बेचैनी के साथ उल्टियां हुईं, लेकिन इसे सामान्य बीमारी समझ उन्होंने इलाज नहीं कराया था। जिसके बाद 21 दिसंबर को उनका निधन हो गया। आकाश के मुताबिक डोज लगवाने के बाद से पिता ने मजदूरी पर जाना बंद कर दिया था, वे कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर रहे थे।

Related posts