विशेषज्ञों ने कहा: सील की तरह पहनें डबल मास्क, ताकि फेफड़ों में ना पहुंचे इंफेक्शन

चैतन्य भारत न्यूज

देश में बढ़ते कोरोना केस के बीच देश के डॉक्टरों ने इससे बचने के उपाय बताए हैं। दिल्ली एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने लोगों में बने डर के माहौल, अफरातफरी और दवाओं की कमी पर भी बात की। साथ ही कहा कि ज्यादातर मरीज घर पर रहकर ही ठीक हो सकते हैं, इसलिए पैनिक करने की जरूरत नहीं है।


डॉ. रणदीप गुलेरिया ने एंटी वायरल ड्रग रेमडेसिविर की बढ़ती मांग पर कहा कि रेमडेसिविर कोई जादू की गोली नहीं है। यह सिर्फ उन्हीं मरीजों को दी जाती है, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जाता है। जिन्हें गंभीर बीमारी होती है और जिनका ऑक्सीजन लेवल 93 से नीचे होता है। इसलिए ऑक्सीजन और रेमडेसिविर का दुरुपयोग न करें। अधिकतर मरीज घर पर आइसोलेट होकर ठीक हो सकते हैं। ज्यादातर मरीजों को तो ऑक्सीजन की भी जरूरत नहीं पड़ती।

मेदांता के चेयरमैन डॉ. त्रेहान ने कहा कि, यदि आप भीड़ में जा रहे हैं तो डबल मास्क जरूर पहनें। इस तरह पहनें, जिससे एक सील बन जाए, ताकि फेफड़ों में इंफेक्शन न जाए। बड़ी शादियों और भीड़ में जाने से बचें। RT-PCR टेस्ट कराने से पता चल जाएगा कि आप पॉजिटिव हैं या नहीं। पॉजिटिव आते हैं तो लोकल डॉक्टर से बात करें। सभी डॉक्टरों को कोविड प्रोटोकॉल पता है। 90% लोग घर पर ही ठीक हो जाएंगे। योग और अनुलोम-विलोम करना फेफड़ों के लिए अच्छा होता है। इसलिए इन्हें करते रहें।

एक दिन में तीन लाख से ज्यादा केस

बता दें कि 24 घंटे में देश में कोरोना के साढ़े तीन लाख से ज्यादा केस सामने आए हैं। जबकि 2812 मरीजों ने दम तोड़ दिया। इन सबके बीच 24 घंटे में 2 लाख 19 हजार से ज्यादा मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए। देश में फिलहाल 28 लाख 13 हजार से ज्यादा एक्टिव केस हैं।

Related posts