ट्रेनों में भी कोरोना वायरस का डर, यात्रियों को कंबल नहीं देगा मध्य और पश्चिमी रेलवे

western railway, western railway news, coronavirus

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए मध्य और पश्चिमी रेलवे ने शनिवार को एसी डिब्बों से पर्दे और कंबल निकालने का आदेश जारी किया है। वेस्टर्न रेलवे पीआरओ ने कहा कि, कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए एसी बोगी से कंबल और पर्दे हटाने का फैसला किया है।



उन्होंने कहा कि हर सफर के बाद कंबल को नहीं धोया जा सकता इसलिए बेहतर है कि यात्री अपना कंबल साथ रखें। यही नही बल्कि स्टेशन पर कार्यरत स्टेशन मास्टर के लिए एक हेल्पलाईन नंबर भी जारी किया गया है। इसके अतिरिक्त एक हेल्पलाईन नंबर जिला प्रशासन की ओर से जारी किया गया है। दो हेल्पलाइन नंबर की मदद से स्टेशन मास्टर तत्काल किसी भी तरह की समस्या या मरीज के मिलने पर सूचना या जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

जानकारी के मुताबिक, कोरोना वायरस के प्रकोप और दहशत के मद्देनजर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को पोस्टर व डिजिटल स्क्रीन पर संदेश के जरिए जागरुक किया जा रहा है। सफाई पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है, जगह-जगह सेनिटाइजर रखे गए हैं और स्टाफ को मास्क दिए गए हैं। संक्रमित मरीजों के लिए यहां आइसोलेशन वार्ड भी बनाया गया है।

बता दें, भारत में कोरोना वायरस बहुत तेजी से पैर पसार रहा है। अब तक इसके 96 मरीज पाए जा चुके हैं और दो मरीजों की मौत भी हो चुकी है। हालांकि 10 लोग इससे ठीक भी हुए हैं। भारत ने शनिवार को इसे आपदा घोषित किया है। एहतियात के तौर पर कई राज्यों ने स्कूल, कॉलेजों को बंद कर दिया है।

इन राज्यों में फैल चुका है कोरोना

कोरोना अब तक देश के 13 राज्यों में फैल चुका है। जानकारी के मुताबिक, कोरोना संक्रमण के सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र से आए हैं, यहां 26 लोग संक्रमित बताए जा रहे हैं। दूसरे नंबर पर 19 मामलों के साथ केरल है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने शनिवार शाम को ऐलान किया कि राज्य में सभी शॉपिंग मॉल 31 मार्च तक बंद रहेंगे। साथ ही वहां स्कूल, कॉलेज, सिनेमा हॉल और जिम भी 31 मार्च तक के लिए बंद किए हैं।

ये भी पढ़े…

अमिताभ ने लिखी कोरोना वायरस पर कविता, कहा- आने दो कोरोना-वोरोना

कोरोना वायरस से संक्रमित फेफड़ों की पहली बार जारी हुई 3D तस्वीर, फेफड़ों की हो जाती है ऐसी हालत

कोरोना वायरस के डर से दुनियाभर में बदला अभिवादन का तरीका, जानें अलग-अलग देशों की परंपराएं

Related posts