जासूसी पर घिरने के बाद व्हाट्सएप ने दी सफाई, कहा- यूजर्स की निजता हमारी प्राथमिकता

whatsapp

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी व्हाट्सएप से इजरायल स्पाईवेयर ‘पेगासस’ के जरिए वैश्विक स्तर पर भारतीय पत्रकारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी करने की बात सामने आई थी, जिसके बाद व्हाट्सएप भारत सरकार के निशाने पर आ गया। शुक्रवार को व्हाट्सएप ने अपनी सफाई में बयान जारी किया है।



व्हाट्सएप के प्रवक्ता ने कहा कि, ‘यूजर्स की निजता और सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है। मई माह में हमने सुरक्षा से जुड़ा मामला जल्द सुलझा लिया था और इसे लेकर भारत सरकार के अधिकारियों को सूचित किया था। हमने इस मामले में कड़े कदम उठाए हैं। हम भारत सरकार की सभी नागरिकों की गोपनीयता को सुरक्षित रखने की आवश्यकता पर उनके साथ खड़े है।’ प्रवक्ता ने आगे कहा कि, ‘हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि किसी भी यूजर्स के डेटा के साथ किसी तरह का खिलवाड़ ना हो। व्हाट्सएप यूजर्स के मैसेज की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।’


बता दें गुरुवार को व्हाट्सएप ने इजरायल की साइबर खुफिया कंपनी एनएसओ समूह पर आरोप लगाया था कि, ‘वह मैसेजिंग सेवा व्हाट्सएप के जरिए पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अन्य की साइबर जासूसी कर रही है।’ गुरुवार को यह मामला सामने आने के बाद विपक्ष ने एक बार फिर मोदी सरकार को निशाने पर लिया, लेकिन केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि, ये सिर्फ सरकार को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है।


जानकारी के मुताबिक, भारत सरकार को व्हाट्सएप पर जासूसी मामले में साजिश कराने का शक है। टेलीकॉम मंत्रालय भी लगातार व्हाट्सएप से मैसेज के सोर्स सुरक्षा एजेंसियों को डिस्क्लोज करने की मांग कर रहा है , लेकिन व्हाट्सएप हर बार ही यूजर्स की प्राइवेसी का हवाला देकर सरकार की बात को टाल रहा है। इसके अलावा यूएस, यूके और ऑस्ट्रेलिया भी भारत की मांग के बाद व्हाट्सएप पर दबाव बना रहे हैं।

ये भी पढ़े…

जानें कैसे भारतीय WhatsApp में घुसी इजरायली एजेंसी? कौन-कौन हुए इस जासूसी के शिकार?

अब फोन में बिना इंटरनेट के भी चलेगा WhatsApp, जल्द लॉन्च होने वाला है ये फीचर

WhatsApp में जल्द आने वाले हैं ये दो शानदार फीचर, कर देंगे यूजर्स की इस बड़ी समस्या को हल

Related posts