बच्चों के मास्क पहनने को लेकर WHO ने जारी किए नए दिशा-निर्देश

चैतन्य भारत न्यूज

दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अब बच्चों के मास्क पहनने को लेकर कई नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। डब्ल्यूएचओ ने यह सुझाव दिया है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों को मास्क नहीं पहनना चाहिए। संगठन ने यह निर्णय मास्क पहनने की क्षमता को ध्यान में रखते हुए किया गया था।

डब्ल्यूएचओ द्वारा बच्चे की सुरक्षा और उनके पूरे स्वास्थ्य जैसे अन्य कारकों पर भी विचार किया है। डब्ल्यूएचओ ने अपने कोरोना वायरस पेज में 6 से 11 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए कई मापदंड सूचीबद्ध किए हैं। इसे लेकर डब्ल्यूएचओ का कहना है कि, सिर्फ उस क्षेत्र के बच्चों को मास्क पहनना चाहिए जहां कोविड-19 का व्यापक प्रसार हो रहा है।

इसके अलावा डब्ल्यूएचओ ने यह भी कहा कि बच्चों के मास्क पहनने की क्षमता, वयस्क पर्यवेक्षण और सीखने के संभावित प्रभाव जैसे पहलुओं को भी इन मामलों में ध्यान में रखा जाना चाहिए। डब्ल्यूएचओ का सुझाव है कि जहां बच्चा रहता है वहां वायरस के प्रसार की परवाह किए बिना 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को मास्क पहनना चाहिए और वयस्कों की तरह दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए।

डब्ल्यूएचओ ने यह सिफारिश की है कि कैंसर और सिस्टिक फाइब्रोसिस से पीड़ित बच्चों को बेहतर सुरक्षा प्रदान करने के लिए चिकित्सा मास्क पहनना चाहिए। संस्था ने यह भी कहा कि विकास संबंधी कठिनाइयों वाले बच्चों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य नहीं है और ऐसे मामलों का आकलन माता-पिता, देखभाल करने वालों और चिकित्सा कर्मियों द्वारा किया जाना चाहिए।

गौरतलब है कि दुनियाभर में कोरोना वायरस के 2.3 करोड़ से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इसके सबसे ज्यादा मामले अमेरिका, भारत और ब्राजील में हैं। वहीं जर्मनी, हांगकांग, दक्षिण कोरिया, न्यूजीलैंड और वियतनाम जैसे कुछ देशों की महामारी को संभालने की कोशिशों के लिए सराहना हुई। लेकिन अब यहां मामलों में वृद्धि हो रही है।

Related posts