संसद में प्रदूषण पर हुई बहस, बीजेपी सांसद ने कहा- पहले केवल दिल्ली का मुख्यमंत्री खांसता था, अब सब खांसते हैं

arvind kejriwal khasi

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. संसद के शीतकालीन सत्र की सोमवार यानी 18 नवंबर से शुरुआत हो चुकी है। यह सत्र 13 दिसंबर तक चलेगा। इस दौरान संसद में कुल 27 अहम बिल पेश होंगे। जानकारी के मुताबिक, संसद के पहले दिन की शुरुआत तो हंगामेदार रही ही थी और दूसरे दिन भी हंगामे का दौर जारी है। कांग्रेस समेत विपक्ष की कई पार्टियों ने लोकसभा में जम्मू-कश्मीर के मसले पर हंगामा किया। साथ ही सदन में दिल्ली-एनसीआर में बढ़ रहे प्रदूषण के मामले पर भी चर्चा हुई।



दिल्ली पश्चिमी से बीजेपी सांसद प्रवेश साहिब सिंह ने प्रदूषण पर हो रही चर्चा में अपनी बात रखते हुए कहा कि, वायु प्रदूषण आज एक बीमारी बन गया है। उन्होंने आगे कहा कि, ‘5 साल पहले केवल दिल्ली का मुख्यमंत्री खांसता था और आज सब खांसते हैं।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘दिल्ली में कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी बहुत हो रही है। कांग्रेस सरकार में बनी योजना पर अब काम हो रहा है, फ्लाई ओवर बन रहा है, वहां किसी नॉर्म्स को फॉलो नहीं किया जा रहा है। दिल्ली में एयर प्योरीफॉयर की सेल बढ़ गई। लोग दिल्ली छोड़कर जाना चाहते हैं। मुख्यमंत्री मास्क बांट रहे हैं जो मास्क प्रदूषण से लड़ने में कोई मदद नहीं करता।’ उन्होंने सीएम केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि, ‘दिल्ली के मुख्यमंत्री ने बिना टेंडर के 50 लाख मास्क बांटे इसमें सबसे बड़ा घोटाला हुआ।’

वहीं ओडिशा के पुरी से बीजेडी सांसद पिनाकी मिश्रा ने कहा कि, ‘सिर्फ किसान ही प्रदूषण के लिए जिम्मेदार हैं ऐसा नहीं है। पराली जलाने की घटना दिवाली से दो हफ्ते पहले की है और हवा दिवाली के अगले दिन जानलेवा हुई। पराली के लिए केन्द्र को किसानों को सब्सिडी देनी चाहिए। उसे थोड़ा सपोर्ट करेंगे वह शिफ्ट हो जाएगा। उसे तो दो टाइम की रोटी चाहिए। इसके लिए केन्द्र को आगे आना होगा क्योंकि राज्यों के पास पैसा नहीं है।’

वहीं कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने प्रदूषण को लेकर कहा कि, ‘दिल्ली में प्रदूषण गाड़ियों से होता है, इंडस्ट्री से होता है, ईंट भट्टों से होता है। छोटा किसान जिसकी आवाज कहीं सुनाई नहीं देती है उसे अगर गुनाहगार बनाते हैं तो यह सही नहीं होगा।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘दिल्ली के प्रदूषण पर एक बात हमेशा कही जाती है कि जो आसपास के सूबे हैं वहां पराली जाई जाती है जिस वजह से दिल्ली में प्रदूषण फैलता है। पराली जलाना मैं सही नहीं मानता। लेकिन उसे रोकने के लिए उसे आर्थिक रूप से मजबूत करना जरूरी है।’

ये भी पढ़े…

संसद शीतकालीन सत्र : अर्थव्यवस्था से जुड़े ये महत्वपूर्ण बिल सदन में होंगे पेश

JNU विवाद : हजारों छात्रों का संसद तक पैदल मार्च शुरू, तोड़ी पुलिस बैरिकेडिंग, संसद के आसपास धारा-144 लागू

संसद का शीतकालीन सत्र हुआ शुरू, कई अहम बिलों को पास कराने की कोशिश में सरकार

Related posts