विश्व महिला मुक्केबाजी : मैरीकॉम को सेमीफाइनल में मिली हार, फिर भी बनाया ये बड़ा रिकॉर्ड

mary kom,world boxing championship

चैतन्य भारत न्यूज

उलान (रूस). रूस के उलान उदे शहर में चल रही वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में शनिवार को छह बार की चैंपियन रही एमसी मैरीकॉम (51 किलो) सेमीफाइनल में हार गईं। मैरीकॉम को 51 किग्रा भारवर्ग के इस मुकाबले में तुर्की की मुक्केबाज बुसेनांज कारिकोग्लू के हाथों 4-1 से हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ ही मैरीकॉम को इस बार कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा।



बता दें महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में मेरीकॉम का यह 8वां पदक है। उन्होंने क्वार्टर फाइनल में कोलंबिया की इंग्रीट वालेंसिया को 5-0 से हराकर पदक पक्का कर लिया था। विश्व चैंपियनशिप में मैरीकॉम के अब कुल आठ पदक हो गए हैं और वह ऐसा करने वाली दुनिया की पहली महिला मुक्केबाज भी बन गईं हैं।

मैरीकॉम ने छह बार विश्व चैंपियनशिप का खिताब जीता है, जबकि एक बार वह इसकी उप विजेता रही थीं। इसके अलावा मैरीकॉम के नाम 2012 ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने का कीर्तिमान भी है। इतना ही नहीं बल्कि मैरीकॉम ने 5 बार एशियन चैंपियनशिप जीता है साथ ही एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ गेम्स में भी गोल्ड मेडल जीतने का कमाल किया है।

बता दें मैरी कॉम का जन्म 1 मार्च 1983 को मणिपुर में हुआ था। उनका पूरा नाम एमसी मेरीकॉम (Mangte Chungneijang Mary Kom) है। मैरीकॉम को सुपरमॉम के नाम से भी जाना जाता हैं। विश्व स्तर पर 8 मेडल जीतने के साथ मैरीकॉम ने कई अन्य पुरस्कार भी हासिल किए हैं।

विश्व चैम्पियनशिप : सर्वाधिक पदक

  • मेरीकॉम (महिला) – 8 पदक (6 गोल्ड+1 सिल्वर +1 ब्रॉन्ज)
  • फेलिक्स सेवॉन (पुरुष), 7 पदक (6 गोल्ड+ 1 सिल्वर)
  • केटी टेलर (महिला) 6 पदक (5 गोल्ड+ 1 ब्रॉन्ज)

ये भी पढ़े…

ऐसा रहा सुपरमॉम मैरीकॉम का सफर, जानिए उनसे जुड़ी कुछ खास बातें और अब तक की उनकी उपलब्धियां

मैरीकॉम ने रचा इतिहास, बनीं वर्ल्ड चैंपियनशिप में सबसे ज्यादा मेडल जीतने वाली पहली बॉक्सर

Related posts