महिला दिवस: इन 5 महिलाओं ने बदली भारतीय राजनीति की तस्वीर, नेतृत्व क्षमता को सभी हुए नतमस्तक

women leaders

चैतन्य भारत न्यूज

आज के जमाने में महिलाएं हर मामले में पुरुषों की बराबरी पर हैं। वह घर से लेकर बाहर तक सभी बड़ी जिम्मेदारियां संभाल रही हैं। फिर चाहे वो अंतरिक्ष पर जाना हो या सेना में ही शामिल होकर देश की रक्षा करना हो। इन सब महिलाओं के साथ ही भारत की उन महान राजनीतिज्ञों को भी नहीं भूल सकते हैं जिन्होंने भारत के निर्माण के लिए अहम योगदान दिया है। महिला दिवस के मौके पर हम आपको भारत की उन पांच नेत्रियों के बारे में बता रहे हैं जिनकी नेतृत्व क्षमता ने सभी को नतमस्तक किया।

सरोजिनी नायडू

sarojini naidu,sarojini naidu death

सरोजिनी नायडू एक स्वंत्रता सेनानी, कवियत्री और भारत की पहली महिला गवर्नर थीं। उनका जन्म 13 फरवरी 1879 में हुआ था। देश को आजादी दिलाने में सरोजिनी नायडू ने अहम भूमिका निभाई थीं। उनका निधन 2 मार्च 1949 में हुआ था।

इंदिरा गांधी

indira gandhi,indira gandhi birthday,indira gandhi death,interesting facts of indira gandhi

देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी वो पहली भारतीय महिला थीं जिन्हें साल 1971 में भारत रत्न अवार्ड से सम्मानित किया गया था। इंदिरा गांधी को आयरन लेडी भी कहा जाता है.

एनी बेसेंट

annie besant

साल 1917 में कोलकाता में एनी बेसेंट कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष चुनी गईं थीं। एनी बेसेंट मूल रूप से आयरलैंड की निवासी थीं। वह उन विदेशियों में शामिल थीं जिन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभाई थी। फिर उनकी रूचि थियोसॉफी में जागी और फिर वह साल 1875 में स्थापित किए गए थियोसॉफिकल सोसाइटी की लीडर बन गईं।

सुचेता कृपलानी

भारत के किसी राज्य की प्रथम महिला मुख्यमंत्री का गौरव पाने वाली सुचेता कृपलानी ( सुचेता मजूमदार ) ही थीं। वह एक स्वतंत्रता सेनानी भी थीं। सुचेता कृपलानी ने 2 अक्टूबर 1963 को उत्तर प्रदेश की पहली महिला मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी।

विजयलक्ष्मी पंडित

vijaya laxmi pandit

विजयलक्ष्मी पंडित पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु की छोटी बहन थीं। आजादी के बाद साल 1947 से 1949 तक रूस में राजदूत रह चुकी हैं। साल 1953 में विजयलक्ष्मी पंडित यूएन जनरल असेंबली की प्रेसिडेंट रहीं थीं। विजयलक्ष्मी पंडित पहली महिला थीं जो यूएन जनरल असेंबली की प्रेसिडेंट रहीं। फिर 1946 में संविधान सभा में चुनी गईं। उन्होंने औरतों की बराबरी से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय रखी और बातें मनवाईं।

Related posts