World Brain Tumor Day : लंबी जिंदगी जी सकते हैं ब्रेन ट्यूमर के मरीज, जानिए इसके लक्षण और उपचार का तरीका

चैतन्य भारत न्यूज

हर वर्ष 8 जून को ‘विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस’ (World Brain Tumor Day) मनाया जाता है। इस दिवस को सबसे पहले जर्मन ब्रेन ट्यूमर एसोसिएशन (डॉयचे हिरनट्यूमरहिल्फ़) द्वारा मनाया गया था। यह ब्रेन ट्यूमर के बारे में लोगों के बीच शिक्षा और जन जागरूकता प्रसारित करने वाला एक गैर लाभकारी संगठन है। ब्रेन ट्यूमर के बारे में आम लोगों में जागरूकता कायम करने के उद्देश्य से यह दिवस हर साल मनाया जाता है।

ब्रेन ट्यूमर क्या है?

ब्रेन ट्यूमर एक खतरनाक रोग है, जिसमें मस्तिष्क में ट्यूमर बनना शुरू हो जाता है। जब शरीर में कोशिकाओं की अनावश्यक वृद्धि होती हैं, लेकिन तब शरीर को इन अनावश्यक वृद्धि वाली कोशिकाओं की आवश्यकता नहीं होती हैं। इस अवस्था को ही कैंसर के नाम जाना जाता है। ब्रेन के किसी हिस्से में पैदा होने वाली असामान्य कोशिकाओं की वृद्धि ‘ब्रेन ट्यूमर’ होता है। फिर एक समय बाद इसे ही ब्रेन कैंसर के रूप में पहचाना जाता है। समय रहते इसका उचित इलाज नहीं कराया गया तो यह जानलेवा साबित होता है। ब्रेन ट्यूमर 3 से 12 या 15 वर्ष की आयु में अथवा 50 वर्ष की आयु के बाद होता है। यह रोग पुरुष या महिला किसी को भी हो सकता है।

ब्रेन ट्यूमर के कुछ सामान्य लक्षण –

  1. ब्रेन ट्यूमर का एक लक्षण सिर दर्द भी है, जो प्रायः प्रातःकाल बहुत तेज होता है और जैसे-जैसे दिन चढ़ता है, सिर दर्द कम होना शुरू हो जाता है। यह दर्द प्रायः सिर के सामने अथवा पीछे की ओर अधिक होता है।
  2. इस दर्द के प्रारंभ में साधारण दर्द निवारक दवाओं से तो आराम मिल जाता है, लेकिन फिर इन दवाओं का प्रभाव भी खत्म होता जाता है, साथ ही सिर दर्द की तीव्रता बढ़ती ही जाती है।
  3. ब्रेन ट्यूमर में सिर दर्द की तीव्रता के साथ-साथ अन्य लक्षण, जैसे शरीर में चैतन्यता की असामान्यता, किसी विषय पर बार-बार सोचने के लिए बल का प्रयोग करना, दृष्टि में बदलाव, चलने, स्पर्श, सूंघने, सुनने आदि की क्रियाओं में परिवर्तन के लक्षण दिखने लगते हैं।
  4. मस्तिष्क अथवा इससे संबंधित क्रियाओं में अचानक परिवर्तन आ जाता है। इसका कारण मस्तिष्क के अंदर किसी अनावश्यक कोश की वृद्धि का होना होता है, जो शरीर के किसी अन्य भाग में गांठ या घाव का प्रतिरूप है। जैसे ही इसके विकास की गति तीव्र होती है, सिर के साथ गर्दन में भी दर्द होने लगता है और रोगी अचानक बेहोश हो सकता है।

ब्रेन ट्यूमर से जुड़ी कुछ जरुरी बातें

  • आमतौर पर धारणा होती है कि ब्रेन ट्यूमर अधेड़ उम्र में होता है, लेकिन ये धारणा गलत है ब्रेन ट्यूमर किसी भी उम्र में हो सकता है।
  • ब्रेन ट्यूमर किस वजह से होता है, इसे लेकर अब तक सही कारण स्पष्ट नहीं हैं।
  • ब्रेन ट्यूमर के लक्षण उसकी साइज़, टाइप और होने वाली जगह पर निर्भर करते हैं।
  • वयस्कों में प्राथमिक ब्रेन ट्यूमर का सबसे सामान्य प्रकार एस्ट्रोसाइटोमा और ओलिगोडेन्ड्रोग्लियोमा हैं।
  • बच्चों में सामान्य तौर पर मेडुलोब्लास्टोमा, ग्रेड एक या ग्रेड दो एस्ट्रोसाइटोमा, एपिन्डाइमोमा और ब्रेन स्टेम ग्लियोमा होते हैं।
  • ब्रेन ट्यूमर की वजह जेनेटिक भी हो सकती है।
  • ब्रेन ट्यूमर के इलाज के लिए सर्जरी, रेडियेशन और कीमोथैरेपी की जाती है।

Related posts