फिनलैंड फिर बना दुनिया का सबसे खुशहाल देश, खुश रहने के मामले में भारत से आगे है पकिस्तान

चैतन्य भारत न्यूज

एक मुस्कुराता हुआ चेहरा दुनिया का सबसे खूबसूरत चेहरा माना जाता है। हैल्थ एक्सपर्ट की मानें तो रोजाना हंसने से सेहत तो अच्छी रहती ही है, साथ ही शरीर में एनर्जी भी बनी रहती है। रोजाना करीब 10 मिनट हंसने से शरीर की इम्युनिटी के साथ उम्र भी बढ़ती है। हर साल 20 मार्च को ‘विश्व हैप्पीनेस डे’ के मौके पर दुनिया के सबसे खुशहाल देशों की सूची जारी की जाती है। इस बार भी सबसे खुशहाल देशों में फिनलैंड ने वापस पहला स्थान हासिल किया है।

कोरोना संकट के दौरान भी फिनलैंड के लोग सबसे अधिक खुश रहे हैं। वहीं भारत 149 देशों की इस सूची में 139वें नंबर पर है। ‘वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट’ में पाया गया है कि कोरोना महामारी से सबक लेते हुए पूंजी नहीं स्वास्थ्य पर जोर देना होगा। संयुक्त राष्ट्र के सस्टेनेबल डेवलपमेंट सॉल्यूशन्स नेटवर्क की ओर से जारी वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट के अनुसार, खुशहाल देशों की सूची में डेनमार्क दूसरे, स्विट्जरलैंड तीसरे नंबर पर है।

ये हैं सबसे खुशहाल देश

दुनिया के सबसे खुशहाल देशों की इस सूची में पहले नौ पायदान पर यूरोपियन देशों का कब्जा है। दूसरे स्थान पर डेनमार्क, तीसरे पर स्विट्जरैंड, चौथे पर आइसलैंड, पांचवें पर नीदरलैंड, छठे पर आइसलैंड, सातवें पर नॉर्वे, आठवें पर स्वीडन और नौवें पर लग्जमबर्ग है। न्यूजीलैंड अकेला ऐसा गैर-यूरोपियन देश है जिसने 10वें पायदान के साथ टॉप-10 में जगह बनाई है।

बता दें कि ‘वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट’ में फिनलैंड को लगातार चौथी बार पहला स्थान प्राप्त हुआ है। वहीं संयुक्त राज्य अमेरिका जो पांच साल पहले 13वें स्थान पर था, 18वें पायदान से फिसलकर 19वें स्थान पर चला गया है। ब्रिटेन में कोरोना से सवा लाख लोगों की मौत के बावजूद लिस्ट में यह देश 17वें स्थान पर है।

149 देशों की इस सूची में भारत 139वें स्थान पर है। पिछले साल भारत इस लिस्ट में 140वें पायदान पर था यानी देश को केवल एक पायदान की बढ़त मिली है। भारत के पड़ोसी देशों की बात करें तो पाकिस्तान इस लिस्ट में भारत से 34 पायदान आगे 105वें स्थान पर है। जबकि नेपाल 87वें, बांग्लादेश 101, म्यांमार 126 और श्रीलंका 129वें स्थान पर है।

Related posts