कोरोना संकट: WHO ने पहली बार खान-पान को लेकर जारी किए दिशानिर्देश, जानें क्या करें और क्या नहीं

foods

चैतन्य भारत न्यूज

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना संकट को देखते हुए अब तक सफाई और सुरक्षा को लेकर कई तरह के दिशानिर्देश जारी किए जा रहे हैं। अब डब्ल्यूएचओ ने फूड सेफ्टी को लेकर कुछ और टिप्स दिए हैं। साथ ही यह बताया गया है कि यह क्यों जरूरी है। आइए जानते हैं कि खाने को सुरक्षित रखने के लिए डब्ल्यूएचओ ने किन 5 तरीकों का इस्तेमाल करने को कहा है।

सफाई का विशेष ध्यान रखें

खाना बनाने से पहले या उससे संबंधित किसी भी सामग्री को चुने से पहले हाथों को अच्छी तरह से साफ करें। खाना बनाने में इस्तेमाल होने वाली सभी चीजों को भी साफ रखें। किचन को किसी भी तरह के कीड़े-मकोड़े और जानवरों से दूर रखें। वैसे तो अधिकांश सूक्ष्मजीव बीमारी का कारण नहीं होते हैं लेकिन गंदी जगहों, पानी और जानवरों में खतरनाक सूक्ष्मजीव व्यापक रूप से पाए जाते हैं। यह सूक्ष्मजीव बर्तन पोंछने, किचन के अन्य कपड़ों और कटिंग बोर्ड में आसानी से आ जाते हैं जो हाथों के जरिए खानों में पहुंच सकते हैं। इससे कई तरह के खाद्य जनित रोग हो सकते हैं।

कच्चा और पका हुआ खाना अलग-अलग रखें

कच्चे चिकन, मीट या अन्य सभी सी फूड्स को अन्य खाने की चीजों से दूर रखें। कच्चे भोजन के लिए बर्तन भी अलग रखे। कच्चे भोजन में इस्तेमाल किए गए बर्तन या चाक़ू को दूसरे खाद्य पदार्थों में इस्तेमाल न करें। कच्चे और पके भोजन के बीच दूरी बनाने के लिए उन्हें किसी बंद बर्तन में रखें। दरअसल कच्चे भोजन विशेष रूप से मांस, पोल्ट्री, सी फूड्स और उनके जूस में खतरनाक सूक्ष्मजीव हो सकते हैं। खाना बनाने के दौरान यह एक से दूसरे भोजन में भी जा सकते हैं इसलिए इन्हें अलग-अलग रखना जरूरी है।

अच्छे से पकाएं खाना

खाना अच्छी तरह से पकाएं खासतौर से मीट, अंडे, पोल्ट्री और सी फूड्स। इन्हें 70 डिग्री सेल्सियस पर धीरे-धीरे उबालकर अच्छे से पकाएं। इनका सूप बनाते समय इस बात का ध्यान रखें कि यह गुलाबी रंग का ना दिखे। यह पकने के बाद बिल्कुल साफ दिखना चाहिए। तापमान चेक करने के लिए आप थर्मामीटर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। पके हुए भोजन को खाने से पहले एक बार फिर से अच्छे से गर्म करें। अच्छी तरह खाना पकाने से सारे कीटाणु मर जाते हैं। स्टडी से पता चलता है कि 70 डिग्री सेल्सियस तापमान पर पका खाना खाने में सुरक्षित होता है। खाना पकाने में जिन पर खास ध्यान देने की जरूरत है वो हैं कीमा, मीट और पोल्ट्री फूड।खाने को

सुरक्षित तापमान पर रखें

पके हुए खाने को कमरे के तापमान में 2 घंटे से ज्यादा न छोड़े। पके हुए खाने को फ्रिज में उचित तापमान में रखें। भोजन को परोसने से पहले कम से कम 60 डिग्री सेल्सियस तापमान पर अच्छे से गर्म करें। खाने को फ्रिज में बहुत देर तक ना रखें। दरअसल कमरे के तापमान पर रखे खाने में सूक्ष्मजीव बहुत तेजी से बढ़ते हैं। 5 डिग्री से कम और 60 डिग्री से ज्यादा तापमान में यह सूक्ष्मजीव पनपने बंद हो जाते हैं हालांकि कुछ खतरनाक कीटाणु 5 डिग्री से भी कम तापमान पर बढ़ते हैं।

साफ पानी का इस्तेमाल करें

खाने और पीने के लिए हमेशा साफ पानी का ही इस्तेमाल करें। हो सके तो पहले पानी को अच्छे से उबाल लें और फिर उसे इस्तेमाल करें। सब्जियों और फलों को अच्छे से धोएं। ताजा और पौष्टिक खाद्य पदार्थों लें। सुरक्षा के लिहाज से पाश्चराइज्ड मिल्क बेहतर होते हैं। कच्चे सामग्री यहां तक कि पानी और बर्फ में भी कई बार खतरनाक सूक्ष्मजीव पाए जाते हैं जो पानी को जहरीला बना देते हैं।

Related posts