अंतरराष्‍ट्रीय शेर दिवस : जानिए ‘जंगल के राजा’ के बारे में कुछ रोचक तथ्य

world lion day 2019

चैतन्य भारत न्यूज

हर वर्ष 10 अगस्त को ‘अंतरराष्‍ट्रीय शेर दिवस’ मनाया जाता है। जंगल का राजा शेर अब लुप्त होते जा रहा हैं। विश्व में तेजी से घटती शेरों की संख्या को मद्देनजर रखते हुए ‘अंतरराष्‍ट्रीय शेर दिवस’ मनाया जाता है। इस दिन कई जागरूकता अभियान चलाए जाते हैं जिनमें शेरों के संरक्षण के लिए लोगों को जागरूक करते हैं। इस मौके पर हम आपको आज शेरों के कुछ रोचक तथ्यों के बारे में बता रहे हैं।

  • करीब 2000 साल पहले पृथ्वी पर लगभग 10 लाख से भी ज्यादा शेर पाए जाते थे।
  • 1940 के दशक में शेरों की संख्या करीब 4.5 लाख थी जो अब घटकर करीब 35 हजार ही रह गई है।
  • बिल्ली की दूसरी प्रजातियों के मुकाबले शेर सबसे अच्छे तैराक होते है।
  • बाघों के बाद शेर बिल्ली प्रजाति में दूसरा सबसे बड़ा जानवर है।
  • शेर बिल्ली प्रजाति का एकमात्र ऐसा सदस्य होता है जिसकी रेशमी गुच्छे वाली पूंछ होती है। उनकी गुच्छे वाली पूंछ 5-7 महीनों के बाद दिखती है।
  • शेर एक दिन में 18 पौंड तक मांस खा सकता है।
  • शेर 36 फीट दूर तक छलांग लगा सकता है।
  • किसी भी नए इलाके पर कब्जा करने के लिए 3 से 4 नर शेरों को समूह में रहना पड़ता है। कब्जा करने के लिए नर शेर अक्सर प्रतिद्वंद्वी नर शेर सहित उनके शावकों को भी मार देते हैं।
  • शेर की हड्डियों का इस्तेमाल एशिया में दवाईयां बनाने में किया जाता है इसलिए कई शिकारी इसकी बढ़ती मांग को देखते हुए उनका शिकार भी करते हैं।
  • नर शेर 8 फीट तक लंबे हो सकते हैं। शेर का औसतन वजन 180 किलो और शेरनी का 130 किलो तक होता है। दुनिया का सबसे वजनी शेर 375 किलो का था।
  • भले ही शेर को जंगल का राजा कहा जाता है लेकिन अधिकतर शेर मैदानों और विशाल घास के मैदानों में रहना पसंद करते हैं।
  • शेर की दहाड़ने की आवाज 8 किलोमीटर दूर तक भी सुनी जा सकती है।
  • शेर की औसतन उम्र 12 से 17 साल तक होती है। यदि इन्हें पालतू या कैद करके रखा जाए तो ये 25 साल तक जीवित रह सकते हैं।
  • शेर 24 घंटे में से 20 घंटे आराम करते हैं।
  • मार्च 2017 की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में शेरों की संख्या पूरी दुनिया में शेरों की संख्या का 70% है।

ये भी पढ़े… 

अंतरराष्‍ट्रीय बाघ दिवस : जानिए बाघों के बारे में 15 रोचक और वैज्ञानिक तथ्य

अंतरराष्‍ट्रीय बाघ दिवस 2019 : भारत में हैं सबसे ज्यादा बाघ, जानिए बाघों की इन 6 प्रजातियों के बारे में

देश मे बाघों की संख्या बढ़कर हुई करीब 3 हजार, पीएम मोदी ने जारी की रिपोर्ट

Related posts