यहां मिलती है दुनिया की सबसे पुरानी और महंगी कॉफी, एक कप की कीमत है 65 हजार रुपए

world's expensive coffee ,22 year old coffee ,world's oldest coffee ,japan

चैतन्य भारत न्यूज

आज हम आपको दुनिया की सबसे महंगी कॉफी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी कीमत आपको चौंका देगी। अपने खास तरह के स्वाद के लिए मशहूर इस कॉफी की कीमत 65 हजार रुपए है।



जी हां…जापान के ओसाका शहर में एक ऐसा कॉफी हाउस है जहां 22 साल पुरानी कॉफी मिलती है और यहां एक कप कॉफी की कीमत 65 हजार रुपए है। इसे दुनिया की सबसे पुरानी और सबसे महंगी कॉफी भी कहा जाता है। यह अपने खास तरह के स्वाद के लिए जानी जाती है जिसकी शुरुआत एक गलती से हुई थी। लेकिन बाद में यह दुनियाभर में प्रसिद्ध हो गई।

world's expensive coffee ,22 year old coffee ,world's oldest coffee ,japan

इस कॉफी हाउस के मालिक का नाम तनाका है। तनाका ने बताया कि, ‘वे पहले आइस कॉफी बेचते थे। इसलिए वो कॉफी को फ्रिज में रखते थे, ताकि उसे जल्दी तैयार किया जा सके। लेकिन एक बार कॉफी के कुछ पैकेट्स फ्रीज में रखकर भूल गए। करीब डेढ़ साल बाद जब तनाका की नजर उन पैकेट्स पर पड़ी तो उन्होंने फेंकने की जगह उसकी कॉफी तैयार की। तनाका देखना चाहते थे कि इस कॉफी के स्वाद में कितना अंतर आया है।’

world's expensive coffee ,22 year old coffee ,world's oldest coffee ,japan

उन्होंने बताया कि, ‘जब मैंने डेढ़ साल पुरानी कॉफी को ग्राइंड कर उसे बनाया तो मुझे बेहद आश्चर्य हुआ क्योंकि कॉफी अभी भी पीने लायक थी। इसमें एक अलग सी खुशबू थी और अलग ही तरह का स्वाद था। मैंने तय किया कि अब मैं कॉफी को सालों तक स्टोर कर के रखूंगा और एक नए स्वाद की कॉफी अपने ग्राहकों को पिलाऊंगा।’

world's expensive coffee ,22 year old coffee ,world's oldest coffee ,japan

इसके बाद तनाका ने लकड़ी के छोटे-छोटे बैरलों का प्रयोग कर कॉफी को एक दशक तक स्टोर किया। 10 साल बाद जब तनाका ने इसका स्वाद चखा तो यह एक सीरप की तरह लगा। इसके बाद उन्होंने कॉफी को 20 साल तक स्टोर किया, जिसके बाद इस कॉफी का स्वाद अल्कोहल जैसा हो गया। इसके बाद तनाका ने इस कॉफी को ग्राहकों को सर्व किया तो उन्हें बहुत पसंद आई। जिसके बाद से इस महंगी कॉफी का सिलसिला शुरू हुआ।

world's expensive coffee ,22 year old coffee ,world's oldest coffee ,japan

ऐसी बनाई जाती है कॉफी

  • तनाका कॉफी के बीज को पीसने के बाद कपड़े की छलनी में डालते है। इसके बाद इस पर गर्म पानी डाला जाता है।
  • इस दौरान कॉफी की पहली बूंद को गिरने में करीब 30 मिनट लग जाते हैं। लेकिन इसके बाद जो कॉफी का स्वाद आता वो लाजवाब होता है।
  • इसके बाद इस तरल को लकड़ी के बैरल में स्टोर करने के लिए रख दिया जाता है।
  • 2 दशक बाद कॉफी को बैरल में लगे नलों के जरिए निकाला जाता है। जिससे इसका स्वाद चॉकलेटी और कुछ हद तक शराब जैसा भी होता है।
  • हालांकि यह आम आदमी के लिए काफी महंगी है। लेकिन जो लोग केवल स्वाद के लिए पैसे खर्च कर सकते हैं उन्हें यह बेहद पसंद आती है।

ये भी पढ़े…

ये है दुनिया का सबसे खतरनाक पुल, तस्वीरें देखकर ही छूट जाएंगे पसीने

एक ऐसा देश जहां ट्रेन की बागडोर संभालते हैं नन्हें बच्चे, निभाते हैं हर जिम्मेदारी

Related posts