कोरोना के बाद एक और खतरनाक वायरस की दस्तक, अब जीका वायरस ने किया हमला, जानिए इसके लक्षण

चैतन्य भारत न्यूज

देशभर में कोरोना वायरस का कहर अभी खत्म नहीं हुआ और इसी बीच एक और खतरनाक वायरस ने दस्तक दे दी है। इस वायरस का नाम है जीका जिसकी केरल में पुष्टि हुई है। कोरोना लहर के बीच इस वायरस के आने से खतरा बहुत ज्यादा बढ़ गया है।

इस माछकार के काटने से फैलता है जीका वायरस

केरल से 19 लोगों के सैंपल पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में भेजे गए हैं। आशंका है कि इनमें से 13 लोग जीका वायरस से संक्रमित हो सकते हैं। इन 13 लोगों में एक गर्भवती महिला भी शामिल है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, जीका वायरस एडीज मच्छरों के काटने से फैलता है और ये मच्छर दिन के समय सक्रिय रहते हैं। हालांकि यह वायरस पहली बार भारत में नहीं फैला है, बल्कि साल 2017 में गुजरात के अहमदाबाद में इसके संक्रमण के तीन मामलों का पता चला था, जिसमें एक गर्भवती महिला भी शामिल थी।

जीका वायरस के लक्षण

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, जीका वायरस रोग के लक्षण आमतौर पर 3-14 दिन के बीच दिखते हैं। हालांकि इससे संक्रमित अधिकांश लोगों में लक्षण विकसित भी नहीं होते हैं, लेकिन जिनमें होते हैं, उनमें बुखार, त्वचा पर चकत्ते, कंजक्टिवाइटिस, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, सिर दर्द और बेचैनी जैसे लक्षण दिख सकते हैं। ये लक्षण आमतौर पर 2-7 दिनों तक रहते हैं।

जीका वायरस रोग की जटिलताएं

गर्भावस्था के दौरान जीका वायरस संक्रमण विकासशील भ्रूण और नवजात शिशु में माइक्रोसेफली और अन्य जन्मजात असामान्यताओं का कारण हो सकता है। गर्भावस्था में इसके संक्रमण के परिणामस्वरूप गर्भावस्था की गंभीर जटिलताएं भी देखने को मिलती हैं, जैसे कि भ्रूण का नुकसान, बच्चे का समय से पहले जन्म या बच्चे का मृत पैदा होना।

जीका वायरस रोग का इलाज

WHO के अनुसार, जीका वायरस के संक्रमण या इससे जुड़ी बीमारियों का फिलहाल कोई इलाज उपलब्ध नहीं है। हालांकि इसके संक्रमण के लक्षण आमतौर पर हल्के होते हैं। इसलिए बुखार,त्वचा पर चकत्ते या जोड़ों में दर्द जैसे लक्षणों वाले लोगों को भरपूर आराम करना चाहिए, तरल पदार्थ लेना चाहिए और सामान्य दवाओं के साथ दर्द और बुखार का इलाज करना चाहिए। अगर लक्षण बिगड़ते हैं, तो उन्हें चिकित्सा देखभाल और सलाह लेनी चाहिए।

जीका वायरस से बचने के उपाय

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, जीका वायरस के संक्रमण को रोकने का सबसे अच्छा उपाय है मच्छरों की रोकथाम।
  • मच्छरों से बचने के लिए पूरे शरीर को ढककर रखें और हल्के रंग के कपड़े पहनें।
  • मच्छरों के प्रजनन को रोकने के लिए अपने घर के आसपास गमले, बाल्टी, कूलर आदि में भरा पानी निकाल दें।
  • अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन और भरपूर आराम करें।
  • जीका वायरस का फिलहाल कोई टीका उपलब्ध नहीं है। इसलिए लक्षण दिखने और स्थिति में सुधार न होने पर डॉक्टर को दिखाएं।

अस्वीकरण नोट: यह लेख मीडिया रिपोर्ट्स और विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट पर प्रकाशित रिपोर्ट के आधार पर तैयार किया गया है। लेख में शामिल सूचना व तथ्य आपकी जागरूकता और जानकारी बढ़ाने के लिए साझा किए गए हैं। किसी भी तरह की बीमारी के लक्षण हों अथवा आप किसी रोग से ग्रसित हों तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

Related posts